Thursday, April 5, 2012

प्रेम रहस्य

                                                                 

तुम संग ओ सांवरे,
नयन मिले बावरे,
 
झुके उठे , उठे झुके,
लजाते से रुके - रुके,

अंखियों के अंखियों से-
कई प्रश्न हुए, हल हुए,

न जाने क्या बात हुई,
और खुल गए भेद कई ।
                       

                   (जयश्री वर्मा)