Monday, July 7, 2014

अंग दान,स्वयं दान,महा दान

हर सुबह की साँझ है और हर रात का है सवेरा,
ये जो जन्म पाया है हमने,चाहे मेरा हो या तेरा,
आना भी रुलाई संग,और जाना भी रुलाई संग,
इस दूरी में भरने हैं जीवन के सुख-दुःख के रंग।

ये पाया जो शरीर,उसे चलाने के कुछ नियम हैं,
सार है सिर्फ मानवता,और जीना संग संयम है,
परिवार,रिश्तों को चलाने में सर्वश्रेष्ठ दे डाला,
खुद की सलामती और जग में स्नेह बुन डाला।

जीने के संग जब,जीवन अपनों के काम आये,
तो मृत्यु उपरान्त शरीर,व्यर्थ में ही क्यों जाए,
अपने शरीर अंगों का,महत्व जरा कुछ समझो,
व्यर्थ न जाए ये तन,अंधविश्वास में न उलझो। 

ये लोक ही सत्य है,जीवन है साँसों की कहानी,
परलोक नहीं है कुछ भी,ये सब बातें हैं अंजानी,
यहीं जन्मा बढ़ा शरीर,अन्य लोक नहीं जाना है,
ये शरीर ही पहचान हमारी,ये यहीं छूट जाना है।

ये काया है कीमती कुछ तो करें इसका उपाय,
नष्ट क्यों करें इसे,क्यों न अमूल्य इसे बनाएं,
जीवित रहते हुए जब सारे ख़ास रिश्ते हैं निभाए,
इक रिश्ता है मानवता,क्यों न उसे भी निभाएं।

मौत के बाद,ये शरीर तो मिटटी में बदलना है,
गर मृत्यु के बाद भी,स्वयं को जीवित रखना है,
तो मजबूत करो खुद को,जीते जी लिख जाओ,
बस अंग दान,स्वयं दान,महा दान कर जाओ।

जीवन के बाद भी,जीने का है यह अनूठा एहसास,
आपका अंग नहीं हुआ व्यर्थ,है ज़रूरतमंद के पास,
गर आप मुझसे हैं सहमत तो,यह संकल्प उठाओ,
जागरूकता फैलाओ,स्वयं से अंगदान कर जाओ। 

                                                          ( जयश्री वर्मा )



6 comments:

  1. सुन्दर प्रस्तुति !
    आज आपके ब्लॉग पर आकर काफी अच्छा लगा अप्पकी रचनाओ को पढ़कर , और एक अच्छे ब्लॉग फॉलो करने का अवसर मिला !

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद संजय भास्कर जी ! मेरे ब्लॉग पर आकर मेरी रचनाओं के साथ शामिल होने के लिए !

      Delete
  2. इस विषय पर मेरे मन मे भी लिखने को था ।
    अंग दान और देह दान आज के दौर की बहुत बड़ी आवश्यकता है और बहुत सारी सामाजिक,चिकित्सकीय एवं पर्यावरणीय समस्याओं का सार्थक समाधान भी।
    सभी को इस ओर प्रेरित होना चाहिये।

    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी हाँ ! आप सही कह रहे हैं यशवंत यश जी ! इस विषय पर हम सबके बीच जागरूकता की आवश्यकता है !

      Delete
  3. कल 08/अगस्त/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    ReplyDelete