Saturday, May 30, 2015

अब दादी नहीं है

बचपन की बातें ,
मीठे से सपनों भरी रातें ,
गर्मी की छुट्टियाँ और गाँव को जाना ,
दादी के गलबहियाँ डाल लाड़ लड़ाना ,
वो आम के बगीचे में ,
सखियों संग उछलना-कूदना ,
वो फ्रॉक मोड़ छोटी-छोटी अमियाँ बटोरना ,
घर लौट सिलबट्टे पे ,
चटनी पिसवाना ,
और रोटी संग खूब चटखारे लेके,खाना,
मेड़ों पे दोनों हाथ फैला ,
हवाई जहाज़ बन दौड़ना ,
नाव बनाने को कागज़ दस जगह से मोड़ना ,
फिर नहर की लहरों संग उसको छोड़ना ,
किसकी नाव आगे है ये होड़ लगाना ,
देवी चबूतरे के पास मोरों को दौड़ाना ,
ट्यूबवेल पे जाके छप-छप नहाना ,
रेलगाड़ी की तरह लम्बी रेल बनाना ,
सबकी फ्रॉक पकड़ के छुक-छुक दौड़ाना,
स्टेशन आने पे झूठे ही-
चाय वाला,पान वाला चिल्लाना ,
शाम को थक हार दादी की गोदी में झूलना ,
किस्से-कहानी बूझना ,
अचंभित हो हंसना और सोचना ,
थपकी संग आँगन के नीम तले सोना ,
रात भर मीठे सपनों में झूलना खोना ,
अबकी जो गर्मी आएगी -
गाँव न मुझे खींचेगा ,
स्नेह की छाँव से कौन अब सींचेगा ,
मन में उठे सवालों का जवाब कौन देगा ,
गले से चिपका कौन लाड-प्यार करेगा ,
अब गाँव का रुख करने को दिल नहीं करता ,
मन की उहापोह से खुद ही है लड़ता ,
गाँव में मेरी अब दादी नहीं है ,
दादी तो अब खुद इक कहानी बानी है।

                                           ( जयश्री वर्मा )


6 comments:

  1. दादी की यादों को संजो कर रखें ... ये बुलाएंगी वापस उन जगहों पर ...
    देल मिएँ उतरती रचना ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत - बहुत धन्यवाद आपका दिगम्बर नस्वा जी आप मेरी रचनाओं पर गौर करते हैं और अपनी ईमानदार टिप्पणी भी देते हैं । सादर आभार !

      Delete
  2. वैसे मैंने कभी गाँव और दादी के साथ का जीवन नहीं देखा, पर आपकी यह post पढ़कर उसकी ख़ुशी चख ली मैंने... धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत - बहुत धन्यवाद आपका Detached जी ! वैसे तो मैंने भी अपनी दादी को देखा नहीं है। बस अपने दोस्तों के अनुभवों को शब्दों में ढाल दिया है।

      Delete
  3. बहुत भावभीनी रचना..
    Recent Post शब्दों की मुस्कराहट पर ...बड़े लोग :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. संजय भास्कर जी ! बहुत-बहुत धन्यवाद !

      Delete