Thursday, February 19, 2015

झूठ न बोलो

मित्रों! मेरी यह रचना दिल्ली प्रेस पत्र प्रकाशन द्वारा प्रकाशित " सरिता " मार्च 2015 में प्रकाशित हुई है,आप भी इसे पढ़ें।
मित्रों! मेरी यह रचना जून  (द्धितीय ) 2017 में पुनः प्रकाशित हुई।

जब नज़र मिली तब था तुमने नज़रों को फेरा ,
पर रह-रह,फिर-फिर और रुक-रुक के देखा,
चेहरे पे अनजाने से थे भाव दिखाए ,
तुमने लाख छुपाए भाव मगर,
नज़रों में तो बात वही थी ।

महफ़िल में अनजाना सा था व्यवहार दिखाया,
तुम्हारी बातों में मेरा कोई भी जिक्र न आया,
तुम चहरे पर कोई शिकन भी न लाए,
पर जिन ग़ज़लों को छेड़ा तुमने ,
लफ़्ज़ों में तो बात वही थी ।

वही राहें सभी थीं पुरानी जानी और पहचानी,
जिन राहों पे कभी की थी हमने मनमानी,
तुम्हारा हर मोड़ पर रुकना और ठहरना,
फिर बोझिलता के संग कदम बढ़ाना,
बुझा-बुझा सा अहसास वही था।

चलो तुम्हारा यूँ नज़र फेरना मैंने माना जायज़,
तुम्हारे लफ्ज़ बेगाने थे ये भी माना जायज़,
राह बदलना चलो वो भी सब जायज़,
मगर ये झूठ न बोलो साथी कि-
तुमको मुझसे प्यार नहीं था।

तुमने नज़र जब फेरी थी तब आँसू थे उनमें,
लफ्ज़ भी तुम्हारे थे दर्द भरे और सहमे,
राहें जब बदलीं तब रुक-रुक के देखा,
पर ये सच तुम न छुपा सके थे,
कि-
तुमको मुझसे प्यार बहुत था,
अब सच कह दो न साथी-
तुमको मुझसे प्यार बहुत था।

                                          जयश्री वर्मा
                                                              

16 comments:

  1. Replies
    1. बहुत-बहुत धन्यवाद अज़ीज़ जौनपुरी जी !

      Delete
  2. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (20.02.2015) को "धैर्य प्रशंसा" (चर्चा अंक-1895)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, चर्चा मंच पर आपका स्वागत है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार आपका राजेन्द्र कुमार जी !

      Delete
  3. बहुत ही लाजवाब और बहुत ही सुंदर रचना , आपका आभार...
    मेरे ब्लॉग पर आप सभी लोगो का हार्दिक स्वागत है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बहुत-बहुत शुक्रिया नवज्योति कुमार जी !

      Delete
  4. Replies
    1. कविता पर प्रतिक्रिया के लिए बहुत - बहुत धन्यवाद प्रतिभा वर्मा जी !

      Delete
  5. बेहतरीन रचना।
    वक्त मिले तो मेंरे ब्लाग rajeshkavya.blogspot.com पर आप का स्वागत है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर धन्यवाद आपका राजेश कुमार राय जी !

      Delete
  6. Replies
    1. आपका धन्यवाद महेन्द्र जी !

      Delete
  7. बहुत खूब ... वैसे भी प्यार को छुपाना मुश्किल होता है ... भावपूर्ण रचना ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप ने सही कहा!धन्यवाद आपका दिगम्बर नासवा जी!

      Delete
  8. प्यार के एहसास में सनी नेह की बँधी डोर न जाने कब तक लिखवाती रहेगी

    ReplyDelete
    Replies
    1. जब तक अस्तित्व में है शायद तब तक !बहुत-बहुत धन्यवाद आपका संजय भास्कर जी !

      Delete