Wednesday, August 14, 2013

मेरा स्वतंत्र भारत

स्वतंत्र मेरे भारत देश की,स्वतंत्रता महान हो,
विश्व पटल पे मेरे देश की,ऊँचाइयाँ बखान हों ।


नई ऊंचाइयां गढ़ डालें,ऐसी बेटियाँ महान हों,
स्वप्न देख साकार करें,ऐसी बेटों की उड़ान हो ।

हरियाली धरती ओढ़े,कृषक कृषि से धनवान हो,
ख़ुशी से फले फूले परिवार,सभी का सम्मान हो ।

नदियाँ बल खाएं,छलकते सरोवरों से पहचान हों,
पशु,पक्षी,लताएँ,वृक्ष,वन सम्पदा की जान हों ।

हर कोई हो साक्षर समर्थ,जन-जन ज्ञानवान हो,
वीरों के बलिदान की,अमर कहानियाँ बयान हों ।

अनंत अंतरिक्ष की ऊंचाइयां चूमें,ऐसे हमारे यान हों,
देश में जन्मीं कल्पना चावला सी,बेटियाँ महान हों ।

रक्षा की अटूट रेशम डोरी का,वज़न जो उठा सके,
ऐसी मजबूत भाइयों की,कलाइयां बलवान हों ।

स्वतंत्र मेरे भारत देश की,स्वतंत्रता महान हो ,
मेरे अमर तिरंगे की,निराली आन-बान-शान हो ।

                                               ( जयश्री वर्मा )



 



2 comments:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल गुरुवार (15-08-2013) को "ब्लॉग प्रसारण- 87-स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएँ" पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है.

    ReplyDelete
  2. Dhanyavaad aapka Rajendra Kumar ji ! Swatantrata divas ki shubhkaamnaayen !

    ReplyDelete