Thursday, June 6, 2013

क्रिकेट और सट्टा

अरे ओ सट्टेबाजों ये तुमने क्या किया घोटाला,
पूरा का पूरा क्रिकेट मैच ही पैसों से खरीद डाला,
बीसीसीई के सारे अधिकारी तकते ही रह गए,
और खिलाड़ी हम दर्शकों को ठगते ही रह गए।

हमें क्या पता था की बैट,बॉल और विकेट की तरह,
ये छोटे-बड़े महान क्रिकेट खिलाड़ी भी बिकाऊ हैं,
जो क्रिकेट मैच जोर शोर से चल रहा है यहाँ -वहाँ,
सारा का सारा टाइम-पास बस धोखा और दिखाऊ है।

ये न सोचा कि भारतीयों की धड़कन बसती है क्रिकेट में,
दोस्तों की दिन-रात की बातें हैं बस बॉल और विकेट में,
हम खाना-पीना भूलकर क्रिकेट को देते हैं प्राथमिकता,
चाहे कोई जरूरी काम हो चाहे कैसी भी हो आवश्यकता।

अगर बोर्ड एग्जाम में क्रिकेट मैच लिखने को आता है,
तो बेटा पढ़ाई छोड़छाड़ टीवी के सामने ही डट जाता है,
पापा,मैच जब पूरा देखूँगा तभी तो निबन्ध लिख पाऊंगा,
फिक्सिंग के पॉइंट्स बताओ तभी तो नंबर पूरे लाऊँगा।

खिलाड़ियों की फोटो काट-काट हम किताबों में रखते हैं,
उनके बड़े-बड़े पोस्टर हमारे घर की दीवारों पर सजते हैं,
पैसा कमाने का जो शार्ट-कट खिलाड़ियों ने निकाला है,
उस शार्ट-कट ने उनका खेल-जीवन ही शार्ट कर डाला है।

                                                                                            ( जयश्री वर्मा )

 





 















 

No comments:

Post a Comment