Friday, April 6, 2012

क्षणिकाएँ

                                                          
                                                                     धर्म 


 


ईश्वर की कल्पना,
बंद आँखों का सपना,
मन की दुर्बलता,
आत्मविश्वाश का हनन,
और,
स्वतंत्रता का अपरहरण,
करता है- धर्म । 
                        (जयश्री वर्मा )

                                                                    





   
 अफसर 


खाने- पीने  से लेकर -
नोटों से खरीदी जा सकने वाली,
हर चीज़ को,
हज़म कर सकने,
की क्षमता वाला,
अच्छे हाजमे का व्यक्ति ।
                                (जयश्री वर्मा )