Sunday, April 1, 2012

नदी

                                                                                                                                                        
विशाल पर्वतों की,चोटियों से निकल,
ऊबड़-खाबड़ पत्थरीले,पत्थरों में से,
सहजता संग,रास्ता अपना बनाती,
कितने ही अनजान,पेचीदे से मोड़ों से,
कितने ही अनजान,कठोर से रोड़ों से,
गुज़ार जाती है अपना,जीवंत जीवन - नदी। 

उछल-उछल,चट्टानों से टकराती ,
वज़ूद की,जद्दोजहद से भी लड़ती,
पीड़ा सहकर भी,न कहती,कराहती,
अपनी ही धुन में,मगन बहती और,
नव जीवन,नव संघर्ष की धुन संग,
कल-कल संगीत सुनाती बहती जाती-नदी। 

फिर-फिर,चट्टान रुपी,इस जीवन से,
नव उत्साह संग,हो लड़ने को तत्पर ,
बिना कुछ कहे,अनवरत लगन साध,
थाम के शान्ति और,जज़्बे का हाथ,
देती मृतको तो तर्पण,जीवों को जीवन,
और सदा ही आगे की ओर बढ़ती जाती - नदी। 

चिलचिलाती सी,धूप की तपन हो,
या फिर रात की,अंधियारी कालिमा,
रुके बिना ही ये,कर्त्तव्य परायणा,
धरा का,हरियाली से,श्रंगार करती,
ज़िन्दगी जीने का,नव सन्देश देती ,
शाश्वत काल से,चुप-चाप,बहती जाती -नदी। 
                                                             
                                                                                 ( जयश्री वर्मा )
 

   
 

                                                                                                                                                                                                       

No comments:

Post a Comment